पुरातन ऐतिहासिक श्री शिवाला बह्मचारी मंदिर

पंजाब के माछीवाड़ा की उत्तर दिशा में स्थित पुरातन ऐतिहासिक श्री शिवाला बह्मचारी मंदिर में शिवलिंग की स्थापना पांडवों ने की थी। पूरे पंजाब में केवल एक और पूरे भारतवर्ष में ऐसे केवल दो मंदिर है। दूसरा मंदिर उत्तर प्रदेशमें है। इस मंदिर में सिद्धपीठ मंदिर होने के सभी गुण है। इस मंदिर का ऐतिहासिक पहलू यह भी है कि मंदिर में शिवलिंग की स्थापना पाडव पुत्रों ने की थी। पाडव पुत्रों ने अपने वनवास के दौरान अज्ञातवास की एक रात इस स्थान पर बिताई थी। अगली सुबह पाडव पुत्रों ने नित्य क्रिया करने के बाद शिवलिंग की पूजा करने के लिए गंगा मइया की अराधना की, उनकी अराधना से प्रसन्न होकर उन्हें वरदान दिया कि यहा प्रतिदिन अढ़ाई पल के लिए आउंगी। यहा किया गया स्नान गंगा स्नान के बराबर है। आज से कुछ समय पूर्व लोग जहा फुल (अस्थिया) बहाते थे, जो स्वीकृत किए जाते थे। इस मंदिर में स्थापित शिवलिंग के सामने प्रवाहित जल में अढ़ाई सीढिया बनी हुई है, जो तब से लेकर आज तक अढ़ाई ही है। इस मंदिर की महानता पिहोवा पुरातन शिव मंदिर के समान है। धार्मिक ग्रथों और महापुरुषों के अनुसार प्राचीन शिव मंदिर में जो पांच गुण होने चाहिए वह यहा मौजूद है। इस पुरातन मंदिर में श्री हनुमान जी की दक्षिणमुखी प्रतिमा, त्रिवेणी (ब्रह्मा, विष्णु, महेश), पंच मुखी शिवलिंग, स्वच्छ प्रवाहित जल और श्मशान सभी पाच चीजें मौजूद है, जो कि इसकी प्राचीनता और महानता को बयान करते है। इस मंदिर में जो प्राणी सच्चे मन से चालीस दिन पूजा करता है। भगवान शिव उसके सभी पापों को दूर कर सभी मनोकामनाएं पूर्ण करते है। इस मंदिर में सावन माह की पूजा का खास महत्व है। भगवान शिव भोले का पवित्र उत्सव महाशिवरात्रि मंदिर में श्रद्धालुओं द्वारा उत्साह से मनाया जाता है। सुबह शिवलिंग की पूजा- अर्चना उपरांत हवन का आयोजन किया जाता है। संगत के लिए लंगर अटूट बरताया जाता है।

image

Posted from WP apps by Atul Lathiya via Galaxy phone

Advertisements

પ્રતિસાદ આપો

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  બદલો )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  બદલો )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  બદલો )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  બદલો )

w

Connecting to %s

Create a website or blog at WordPress.com

Up ↑

%d bloggers like this: